4.8 Stars across 20k reviews​ ★★★★★
Free shipping all over India above ₹400
Cash on delivery available
4.8 Stars across 20k reviews​ ★★★★★
Free shipping all over India above ₹400
Cash on delivery available

आयुर्वेद क्या है, इसका इतिहास, उपचार एवं आयुर्वेद का महत्व और रसायनम आयुर्वेद।

रसायनम आयुर्वेद, rasayanam Ayurveda,

दुनिया भर में उपचार करने की प्रणालियां मौजूद हैं जैसे – यूनानी और एलोपैथी। लेकिन जब आयुर्वेद का नाम आता है तो यह सब उपचार पद्धतियां फीकी पड़ने लगती है। आयुर्वेद सभी उपचार प्रणालियों में सबसे प्राचीन है। यदि आप आयुर्वेद के बारे में संक्षिप में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए ही है। मौजूदा लेख में हम जानेंगे कि आयुर्वेद क्या है, और इसके इतिहास, महत्व और कुछ आयुर्वेदिक दवा और उपचारों के बारे में जानेंगे और साथ ही साथ ये भी जानेंगे की रसायनम आयुर्वेद इसको कैसे बढ़ावा दे रहा है।

आयुर्वेद क्या है? (What is Ayurveda?)

आयुर्वेद (Ayurveda) चिकित्सा की एक पारंपरिक प्रणाली है। इसे दुनिया की सबसे पुरानी समग्र उपचार प्रणालियों में से एक माना जाता है। “आयुर्वेद” शब्द संस्कृत के शब्द “आयुर्” (जीवन) और “वेद” (ज्ञान या विज्ञान) से बना है, जिसका अर्थ है “जीवन का विज्ञान।”

आयुर्वेद समग्र स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देने के लिए शरीर, मन और आत्मा में संतुलन और सद्भाव प्राप्त करने पर केंद्रित है। यह प्रत्येक व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक तत्वों के एक अद्वितीय संयोजन के रूप में देखता है। आयुर्वेद का मूल सिद्धांत यह है कि अच्छा स्वास्थ्य तब प्राप्त होता है जब तीन महत्वपूर्ण ऊर्जाओं या दोषों: वात (वायु और अंतरिक्ष) (Vata (air and space), पित्त (अग्नि और जल) (Pitta (fire and water), और कफ (पृथ्वी और जल) (Kapha (Earth and Water) के बीच संतुलन होता है।

आयुर्वेदिक सिद्धांतों के अनुसार, दोषों में असंतुलन या व्यवधान बीमारी और बीमारी का कारण बन सकता है। आयुर्वेदिक उपचारों का उद्देश्य केवल लक्षणों को कम करने के बजाय असंतुलन के मूल कारणों को संबोधित करके संतुलन और सद्भाव बहाल करना है।

आयुर्वेद का इतिहास कितने वर्ष पुराना हैं? (How old is the history of Ayurveda?)

आयुर्वेद का इतिहास (history of Ayurveda) प्राचीन भारत में 5,000 वर्ष से भी अधिक पुराना है। इसे दुनिया की सबसे पुरानी चिकित्सा प्रणालियों में से एक माना जाता है। माना जाता है कि आयुर्वेद की उत्पत्ति प्राचीन भारतीय ग्रंथों वेदों, विशेषकर अथर्ववेद (Atharvaveda) में हुई है।

आयुर्वेद का ज्ञान और अभ्यास शुरू में मौखिक रूप से पीढ़ी-दर-पीढ़ी प्रसारित होते थे। अंततः, इन शिक्षाओं को लिखित ग्रंथों में संकलित किया गया, जिन्हें आयुर्वेदिक क्लासिक्स (Ayurvedic Classics) के रूप में जाना जाता है। इन ग्रंथों में सबसे महत्वपूर्ण हैं चरक संहिता (Charak Samhita), सुश्रुत संहिता (Sushruta Samhita) और अष्टांग हृदय (Ashtanga Heart), जिन्हें आज भी आयुर्वेदिक ज्ञान का आधिकारिक स्रोत माना जाता है।

ऋषि चरक (Rishi Charak) को समर्पित चरक संहिता विभिन्न रोगों की आंतरिक चिकित्सा, निदान और उपचार पर केंद्रित है। यह दोषों (वात, पित्तऔर कफ) की अवधारणाओं, पाचन के सिद्धांत और उपचार के लिए जड़ी-बूटियों और खनिजों के उपयोग के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करता है।

सुश्रुत संहिता, जिसका श्रेय ऋषि सुश्रुत (Rishi Sushruta) को दिया जाता है, मुख्य रूप से शल्य चिकित्सा और सर्जिकल तकनीकों से संबंधित है। यह शरीर रचना विज्ञान, शल्य चिकित्सा उपकरणों और प्रक्रियाओं पर व्यापक जानकारी प्रदान करता है। क्षेत्र में उनके योगदान के लिए सुश्रुत को अक्सर “सर्जरी का जनक” कहा जाता है।

Also read: The Five Pillars of Ayurveda for a Healthier Body

समय के साथ, आयुर्वेद चिकित्सा की एक व्यापक प्रणाली के रूप में विकसित हुआ जिसमें आंतरिक चिकित्सा, सर्जरी, बाल चिकित्सा, स्त्री रोग विज्ञान, विष विज्ञान और कायाकल्प उपचारों सहित विभिन्न शाखाएं शामिल थीं।

अपने पूरे इतिहास में, आयुर्वेद बौद्ध धर्म और जैन धर्म सहित कई सांस्कृतिक और दार्शनिक परंपराओं से प्रभावित रहा है। यह अन्य चिकित्सा प्रणालियों, जैसे ग्रीक, फ़ारसी और चीनी चिकित्सा के साथ बातचीत से भी प्रभावित हुआ है। भारत में प्राचीन और मध्यकालीन काल में आयुर्वेद का विकास हुआ। इसे शाही संरक्षण का समर्थन प्राप्त था, और आयुर्वेद को समर्पित शिक्षा केंद्र और अस्पताल स्थापित किए गए थे। आयुर्वेदिक विद्वानों और चिकित्सकों ने इस क्षेत्र में अनुसंधान करने, निदान विधियों को परिष्कृत करने और उपचार के तौर-तरीकों को विकसित करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

औपनिवेशिक काल के दौरान, आयुर्वेद को पश्चिमी प्रभावों और एलोपैथिक चिकित्सा (allopathic medicine) के प्रभुत्व के कारण चुनौतियों का सामना करना पड़ा। हालाँकि, पारंपरिक समुदायों में आयुर्वेद का अभ्यास और संरक्षण जारी रहा और भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद भारत सरकार द्वारा इसे एक मूल्यवान चिकित्सा प्रणाली के रूप में मान्यता दी गई।

हाल के दशकों में, भारत और विश्व स्तर पर आयुर्वेद में रुचि फिर से बढ़ी है। आयुर्वेदिक सिद्धांतों और प्रथाओं को स्वास्थ्य और कल्याण के प्रति उनके समग्र दृष्टिकोण के लिए मान्यता मिली है। आज, दुनिया के कई हिस्सों में पारंपरिक चिकित्सा के साथ-साथ आयुर्वेदिक क्लीनिकों, अस्पतालों, अनुसंधान संस्थानों और इसके अध्ययन और प्रचार के लिए समर्पित शैक्षणिक संस्थानों में आयुर्वेद का अभ्यास किया जाता है।

आयुर्वेद का क्या महत्व हैं? (What is the importance of Ayurveda?)

आयुर्वेद कई कारणों से महत्वपूर्ण महत्व रखता है:

वैयक्तिकृत देखभाल (Personalized care) :-

आयुर्वेद मानता है कि प्रत्येक व्यक्ति अपनी व्यक्तिगत संरचना और स्वास्थ्य आवश्यकताओं के साथ अद्वितीय है। यह किसी व्यक्ति की विशिष्ट विशेषताओं और असंतुलन के आधार पर आहार, जीवनशैली और उपचार के लिए व्यक्तिगत सिफारिशें प्रदान करता है।

रोकथाम और कल्याण (Prevention and Wellness) :-

आयुर्वेद स्वास्थ्य को बनाए रखने और बीमारी को रोकने के लिए निवारक उपायों के महत्व पर जोर देता है। इसका उद्देश्य बीमारी के रूप में प्रकट होने से पहले शरीर में असंतुलन की पहचान करना है और समग्र कल्याण को बढ़ावा देने के लिए जीवनशैली में संशोधन, हर्बल उपचार और प्रथाओं पर ध्यान केंद्रित करना है।

मन, शरीर और आत्मा का एकीकरण (Integration of mind, body and spirit) :-

आयुर्वेद मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के बीच जटिल संबंध को पहचानता है। इसमें मानसिक स्पष्टता, भावनात्मक संतुलन और आध्यात्मिक कल्याण को बढ़ावा देने के लिए योग, ध्यान और साँस लेने के व्यायाम जैसी प्रथाओं को शामिल किया गया है।

पारंपरिक चिकित्सा का पूरक (Complement to traditional medicine) :-

आयुर्वेद पारंपरिक चिकित्सा का पूरक हो सकता है। बहुत से लोग एलोपैथिक उपचारों के साथ-साथ आयुर्वेदिक प्रथाओं को अपनी स्वास्थ्य देखभाल की दिनचर्या में शामिल करते हैं, पुरानी स्थितियों के प्रबंधन में सहायता पाते हैं, समग्र कल्याण को बढ़ावा देते हैं, और कुछ दवाओं के दुष्प्रभावों को कम करते हैं।

आयुर्वेदिक दवा, आयुर्वेद क्या है, आयुर्वेदिक उपचार,

आयुर्वेदिक उपचार कैसे कार्य करता है? How does Ayurvedic treatment work?

आयुर्वेदिक उपचार में संतुलन बहाल करने और समग्र कल्याण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से दृष्टिकोण और तौर-तरीकों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। यहां आयुर्वेदिक उपचार के कुछ सामान्य घटक दिए गए हैं :-

आहार संबंधी अनुशंसाएँ (Dietary Recommendations) :-

आयुर्वेद आहार और पोषण पर बहुत जोर देता है। आयुर्वेदिक चिकित्सक व्यक्तिगत आहार दिशानिर्देश प्रदान करने के लिए किसी व्यक्ति के संविधान (प्रकृति) और किसी भी असंतुलन (विकृति) का आकलन करते हैं। इन अनुशंसाओं में पाचन में सहायता करने, दोषों (वात, पित्त और कफ) को संतुलित करने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए विशिष्ट खाद्य पदार्थ, मसाले और खाना पकाने के तरीके शामिल हो सकते हैं।

हर्बल उपचार (Herbal remedy) :-

आयुर्वेद विशिष्ट स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिए जड़ी-बूटियों और हर्बल फॉर्मूलेशन की एक विशाल श्रृंखला का उपयोग करता है। ये हर्बल उपचार अक्सर पाउडर, टैबलेट, काढ़े या तेल के रूप में तैयार किए जाते हैं और किसी व्यक्ति की विशिष्ट आवश्यकताओं के आधार पर निर्धारित किए जाते हैं।  

जीवनशैली में संशोधन (Lifestyle modifications) :-

आयुर्वेद स्वास्थ्य को बनाए रखने में जीवनशैली के महत्व को पहचानता है। आयुर्वेदिक चिकित्सक विशिष्ट दैनिक दिनचर्या (दिनचर्या) की सिफारिश कर सकते हैं जिसमें जीभ खुजलाना, तेल खींचना, आत्म-मालिश (अभ्यंग) और ध्यान जैसी प्रथाएं शामिल हैं। वे संतुलन और जीवन शक्ति को बढ़ावा देने के लिए नींद के पैटर्न, व्यायाम और तनाव प्रबंधन तकनीकों में समायोजन का सुझाव भी दे सकते हैं।

पंचकर्म (Panchakarma) :-

पंचकर्म आयुर्वेद में विषहरण और कायाकल्प उपचारों का एक सेट है। इसका उद्देश्य शरीर में संचित विषाक्त पदार्थों (अमा) को खत्म करना और संतुलन बहाल करना है। पंचकर्म उपचार में तेल मालिश (स्नेहन), भाप चिकित्सा (स्वेदन), विरेचन, नाक की सफाई (नस्या), और एनिमा (बस्ती) शामिल हो सकते हैं। ये उपचार आमतौर पर एक प्रशिक्षित आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में किए जाते हैं।

योग और ध्यान (Yoga and Meditation) :-

आयुर्वेद और योग आपस में घनिष्ठ रूप से जुड़े हुए हैं। शारीरिक शक्ति, लचीलेपन, मानसिक स्पष्टता और आध्यात्मिक कल्याण को बढ़ावा देने के लिए योग आसन (आसन), श्वास व्यायाम (प्राणायाम) और ध्यान की सिफारिश की जाती है। माना जाता है कि ये अभ्यास दोषों को संतुलित करते हैं, मन को शांत करते हैं और समग्र स्वास्थ्य का समर्थन करते हैं।

Yoga and Meditation, history of ayurveda

आयुर्वेदिक उपचार को रसायनम आयुर्वेद कैसे बढ़ावा दे रहा है? (How is Rasayanam Ayurveda promoting Ayurvedic treatment?)

वर्तमान समय में जब हर कोई एलोपैथी उपचार की ओर ज्यादा ध्यान दे रहा है, वहीं रसायनम आयुर्वेद (Rasayanam Ayurveda) सभी लोगो को आयुर्वेद की तरफ फिर से ला रहा है। रसायनम आयुर्वेद, आयुर्वेदिक सिधांत (ayurvedic principles), आयुर्वेदिक उपचार (ayurvedic treatment) और आयुर्वेदिक दवाओं (ayurvedic medicines) से न केवल परिचित करवा रहा है बल्कि आयुर्वेदिक दवाओं और अन्य आयुर्वेदिक उत्पादों से लोगों के जीवन में उचित बदलाव भी ला रहे हैं। जैसे रसायनम आयुर्वेद (Rasayanam Ayurveda) द्वारा बनाई गई टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा (Rasayanam Testoboost) जो कि पुरुषों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो रही है।

अक्सर पूछें जाने वाले सवाल (FAQ’s)

Q: आयुर्वेदिक उपचार पारंपरिक चिकित्सा से किस प्रकार भिन्न है?

A: आयुर्वेद शरीर, मन और आत्मा के अंतर्संबंध को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य के प्रति समग्र दृष्टिकोण अपनाता है, जबकि पारंपरिक चिकित्सा अक्सर विशिष्ट लक्षणों या बीमारियों के इलाज पर ध्यान केंद्रित करती है। आयुर्वेदिक उपचार जीवनशैली में बदलाव, आहार, हर्बल उपचार और योग और ध्यान जैसी प्रथाओं पर जोर देते हैं।

Q: क्या आयुर्वेद सुरक्षित है?

A: जब प्रशिक्षित पेशेवरों के मार्गदर्शन में अभ्यास किया जाता है, तो आयुर्वेद को आम तौर पर सुरक्षित माना जाता है। हालाँकि, एक योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करना महत्वपूर्ण है जो आपकी विशिष्ट आवश्यकताओं का आकलन कर सकता है और उचित सिफारिशें प्रदान कर सकता है।

Q: क्या आयुर्वेदिक उपचार के कोई दुष्प्रभाव हैं?

A: आयुर्वेदिक उपचार, जब ठीक से प्रशासित किया जाता है, तो आम तौर पर न्यूनतम दुष्प्रभाव होते हैं। हालाँकि, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि उपयोग किए जाने वाले आयुर्वेदिक उत्पाद या फॉर्मूलेशन उच्च गुणवत्ता वाले हों और प्रतिष्ठित निर्माताओं से प्राप्त किए गए हों। कुछ व्यक्तियों को कुछ जड़ी-बूटियों या पदार्थों के प्रति विशिष्ट एलर्जी या संवेदनशीलता हो सकती है, इसलिए आयुर्वेदिक चिकित्सक से किसी भी चिंता पर चर्चा करना महत्वपूर्ण है।

निष्कर्ष (Conclusion)

आयुर्वेद एक व्यापक और प्राचीन उपचार प्रणाली है जो शरीर, मन और आत्मा में संतुलन और सद्भाव को बढ़ावा देती है। यह व्यक्तिगत संरचना, जीवनशैली और असंतुलन पर विचार करके स्वास्थ्य और कल्याण के लिए एक समग्र दृष्टिकोण प्रदान करता है। आयुर्वेद निवारक देखभाल पर जोर देता है और इसका उद्देश्य बीमारियों के रूप में प्रकट होने से पहले असंतुलन की पहचान करना है। यह किसी व्यक्ति के विभिन्न पहलुओं के अंतर्संबंध को पहचानता है और संतुलन बहाल करने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए व्यक्तिगत सिफारिशें प्रदान करता है।

References:  

https://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%86%E0%A4%AF%E0%A5%81%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%B5%E0%A5%87%E0%A4%A6

Share on Facebook
Share on Twitter
Share on Linkedin
Popular Videos

One Response

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

    MY CART
    Your cart is emptyShop our best-sellers
      Calculate Shipping
      Apply Coupon

      Win ₹2000

      Subscribe to our newsletter to get a chance to win ₹2000 gift card every week

      Rasayanam WhatsApp