4.8 Stars across 20k reviews​ ★★★★★
Free shipping all over India above ₹400
Cash on delivery available
4.8 Stars across 20k reviews​ ★★★★★
Free shipping all over India above ₹400
Cash on delivery available

पुरुषों के लिए अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) एक साथ लेने के फायदे।

ashwagandha and gokshura

वर्तमान समय में लोग एक बार फिर आयुर्वेद की ओर अपना रुख बढ़ा रहे हैं, पारंपरिक हर्बल उपचारों ने महत्वपूर्ण ध्यान आकर्षित किया है। अनगिनत वनस्पति खजानों में से, दो जड़ी-बूटियाँ अपने उल्लेखनीय गुणों के लिए विशिष्ट हैं: अश्वगंधा और गोक्षुर। (Ashwagandha and Gokshura)

अश्वगंधा (Ashwagandha), जिसे विथानिया सोम्नीफेरा (Withania Somnifera) भी कहा जाता है, और गोक्षुरा (Gokshura), जिसे वैज्ञानिक रूप से ट्रिबुलस टेरेस्ट्रिस (Tribulus Terrestris) के नाम से जाना जाता है, प्राचीन भारतीय चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद में सदियों से पूजनीय रहे हैं। इन जड़ी-बूटियों का उपयोग उनके चिकित्सीय लाभों, शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य के विभिन्न पहलुओं का समर्थन करने के लिए किया गया है।

फ़िलहाल, इस लेख में हम गोक्षुरा और इसके फायदे (gokshura and its benefits) के बारे में विशेष रूप से चर्चा करेंगे और साथ ही अश्वगंधा के लाभ (benefits of ashwagandha) के बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे और जानेंगे कि आखिर यह औषधियां पुरुषों के लिए कैसे लाभकारी है।

अश्वगंधा और गोक्षुरा क्या है? (What is Ashwagandha and Gokshura?)

अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) दो औषधीय पौधे हैं जिनका उपयोग आमतौर पर पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है। यहां प्रत्येक जड़ी-बूटी का संक्षिप्त विवरण दिया गया है :-

अश्वगंधा (Ashwagandha):

benefits of ashwagandha

अश्वगंधा (Ashwagandha), जिसे वैज्ञानिक रूप से विथानिया सोम्नीफेरा (Withania Somnifera) के नाम से जाना जाता है, एक छोटा झाड़ी है जो सोलानेसी परिवार से संबंधित है। यह भारतीय उपमहाद्वीप का मूल निवासी है और भारत में चिकित्सा की पारंपरिक प्रणाली आयुर्वेदिक चिकित्सा (Ayurvedic Medicines) में इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

भारतीय जिनसेंग या विंटर चेरी के रूप में भी जाना जाता है, अश्वगंधा (Ashwagandha) का आयुर्वेद में इसके संभावित स्वास्थ्य लाभों के लिए उपयोग का एक लंबा इतिहास है। “अश्वगंधा” नाम संस्कृत से लिया गया है, जिसमें “अश्व” का अर्थ घोड़ा और “गंध” का अर्थ गंध है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पौधे की जड़ों में एक विशिष्ट मिट्टी की गंध होती है, जो घोड़े की याद दिलाती है।

अश्वगंधा को एक एडाप्टोजेनिक (Adaptogenic) जड़ी बूटी के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक तनावों के अनुकूल बनाने में मदद कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि यह शरीर में संतुलन और लचीलेपन को बढ़ावा देकर समग्र कल्याण और जीवन शक्ति का समर्थन करता है।

गोक्षुरा (Gokshura):

गोक्षुरा (Gokshura), जिसे आम भाषा में गोक्षुर या गोखरू (Gokhru) के नाम से भी जाना जाता है, एक जड़ी-बूटी वाला पौधा है जो जाइगोफिलेसी (Zygophyllaceae) परिवार से संबंधित है। यह अफ्रीका, एशिया और यूरोप के कुछ हिस्सों सहित गर्म और उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों का मूल निवासी है। गोक्षुरा का पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में उपयोग का एक लंबा इतिहास है, जहां इसके संभावित स्वास्थ्य लाभों के लिए इसे महत्व दिया जाता है।

इसके पौधे में छोटे पीले फूल और कांटेदार फल होते हैं, जिससे फल पर तेज कांटों के कारण इसका सामान्य नाम “पंक्चर बेल” पड़ा। गोक्षुरा अपने औषधीय गुणों के लिए जाना जाता है और इसका उपयोग मुख्य रूप से इसके मूत्रवर्धक, कामोत्तेजक और कायाकल्प प्रभावों के लिए किया जाता है।

benefits of gokshura

अश्वगंधा और गोक्षुरा के लाभ क्या हैं? (What are the benefits of Ashwagandha and Gokshura?)

आयुर्वेदिक चिकित्सा में अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) का खासा प्रयोग किया जाता है, खासकर पुरुषों के लिए। तो चलिए जानते हैं इन दोनों औषधियों के फायदों के बारे में :-

अश्वगंधा के लाभ (Benefits of Ashwagandha):-

1. तनाव प्रबंधन (Stress Management) :-

अश्वगंधा अपने एडाप्टोजेनिक (Adaptogenic) गुणों के लिए प्रसिद्ध है, जो शरीर को तनाव से निपटने (dealing with stress)और शांति की भावना को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि यह तनाव से जुड़े हार्मोन कोर्टिसोल के स्तर को नियंत्रित करता है और शरीर की तनाव प्रतिक्रिया का समर्थन करता है।

2. संज्ञानात्मक कार्य (Cognitive Function) :-

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि अश्वगंधा में न्यूरोप्रोटेक्टिव गुण (Neuroprotective properties) हो सकते हैं और संज्ञानात्मक कार्य का समर्थन कर सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि यह स्मृति, फोकस और समग्र संज्ञानात्मक प्रदर्शन को बढ़ाता है।

3. नींद की गुणवत्ता (Sleep Quality) :-

अश्वगंधा का उपयोग कभी-कभी बेहतर नींद को बढ़ावा देने (promote better sleep) और नींद से संबंधित समस्याओं के समाधान के लिए किया जाता है। यह मन को शांत करने, अनिद्रा को कम करने और नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकता है।

4. यौन स्वास्थ्य (Sexual Health) :-

अश्वगंधा का कामोत्तेजक के रूप में उपयोग का एक लंबा इतिहास है और माना जाता है कि यह यौन जीवन शक्ति को बढ़ाता है, कामेच्छा में सुधार करता है और पुरुषों और महिलाओं दोनों में प्रजनन स्वास्थ्य का समर्थन करता है।

गोक्षुरा के लाभ (Benefits of Gokshura):-

1. हार्मोनल संतुलन (Hormonal Balance) :-

माना जाता है कि गोक्षुरा में एडाप्टोजेनिक गुण (Adaptogenic properties) होते हैं, जिसका अर्थ है कि यह शरीर में हार्मोन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। इसका उपयोग अक्सर पुरुषों में स्वस्थ टेस्टोस्टेरोन (testosterone) उत्पादन का समर्थन करने और महिलाओं में हार्मोनल संतुलन को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है। पुरुषों के लिए गोक्षुरा (gokshura for men) एक अत्यंत लाभकारी औषधि है।

2. यौन कल्याण (Sexual Wellness) :-

गोक्षुरा लंबे समय से यौन स्वास्थ्य और कामेच्छा (sexual health and libido) को बढ़ाने से जुड़ा हुआ है। ऐसा माना जाता है कि यह स्वस्थ प्रजनन कार्य का समर्थन करता है और पुरुषों और महिलाओं दोनों में प्रजनन क्षमता में सुधार करने में सहायता कर सकता है।

3. मूत्र संबंधी स्वास्थ्य (Urinary Health) :-

गोक्षुरा अपने मूत्रवर्धक गुणों के लिए जाना जाता है, जिसका अर्थ है कि यह मूत्र उत्पादन को बढ़ाने और मूत्र पथ के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। इसका उपयोग अक्सर किडनी और मूत्राशय के कार्य को समर्थन देने और मूत्र पथ के संक्रमण (urinary tract infection) के लक्षणों को कम करने के लिए किया जाता है।

Rasayanam

4. एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव (Anti-inflammatory and antioxidant effects) :-

गोक्षुरा में ऐसे यौगिक होते हैं जिनमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। ये गुण शरीर को ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन से बचाने में मदद कर सकते हैं, जो विभिन्न पुरानी बीमारियों से जुड़े हैं।

पुरुषों के लिए अश्वगंधा और गोक्षुरा कैसे लाभकारी है? (How is Ashwagandha and Gokshura beneficial for men?)

अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) का उपयोग अक्सर पुरुषों के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है। विशेष रूप से पुरुषों के लिए अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) के कुछ संभावित लाभ यहां दिए गए हैं :-

1. टेस्टोस्टेरोन समर्थन (Testosterone support) :-

माना जाता है कि अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) में ऐसे गुण होते हैं जो पुरुषों में स्वस्थ टेस्टोस्टेरोन उत्पादन का समर्थन कर सकते हैं। टेस्टोस्टेरोन एक हार्मोन है जो पुरुष प्रजनन स्वास्थ्य (male reproductive health), मांसपेशियों के विकास और समग्र जीवन शक्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

2. कामेच्छा वृद्धि (Increased Libido) :-

अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) को पारंपरिक रूप से कामोत्तेजक (aphrodisiac) के रूप में उपयोग किया जाता है और माना जाता है कि यह पुरुषों में कामेच्छा और यौन इच्छा को बढ़ाने में मदद करता है। यह स्वस्थ यौन क्रिया का समर्थन कर सकता है और समग्र यौन कल्याण को बढ़ावा दे सकता है।

3. प्रजनन स्वास्थ्य (Reproductive Health) :-

अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) का उपयोग अक्सर पुरुष प्रजनन स्वास्थ्य का समर्थन करने के लिए किया जाता है। यह शुक्राणु उत्पादन, शुक्राणु की गुणवत्ता और शुक्राणु गतिशीलता में सुधार करने में मदद कर सकता है, जिससे संभावित रूप से प्रजनन क्षमता में वृद्धि हो सकती है।

4. एथलेटिक प्रदर्शन और मांसपेशियों की ताकत (Athletic performance and muscle Strength) :-

कुछ पुरुष एथलेटिक प्रदर्शन और मांसपेशियों की ताकत को संभावित रूप से बढ़ाने के लिए प्राकृतिक पूरक के रूप में गोक्षुरा का उपयोग करते हैं। ऐसा माना जाता है कि यह सहनशक्ति, धीरज और कसरत के बाद की रिकवरी का समर्थन करता है।

Rasayanam Ayurveda

अश्वगंधा और गोक्षुरा कहाँ से प्राप्त करें? (Where to get Ashwagandha and Gokshura?)

यदि आप अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) के लाभ उठाने चाहते हैं तो आपको चाहिए कि आप इसे इसके प्राकृतिक रूप से प्राप्त करें या इसे घर पर उगा लें। वर्तमान समय में भले ही आयुर्वेदिक औषधियां आसानी से उपलब्ध हैं, लेकिन वह कितनी शुद्ध हैं इस बारे में कुछ कह पाना काफी कठिन हैं। अगर आप शुद्ध आयुर्वेदिक उत्पादों की तलाश में हैं तो रसायनम आयुर्वेदा (Rasayanam Ayurveda) आपकी सारी तलाश खत्म करता हैं।

यहाँ आपको एकदम शुद्ध आयुर्वेदिक (Pure Ayurvedic) उत्पाद मिलते हैं। जिसकी वजह से आपको घर पर गोखरू यानि गोक्षुरा उगाने की आवयश्कता नहीं पड़ेगी। आप अपने लिए रसायनम आयुर्वेदा द्वारा तैयार की गई अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) कैप्सूल रसायनम की आधिकारिक वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं।

रसायनम अश्वगंधा और गोक्षुरा कैप्सूल कैसे खास हैं? (How are Rasayanam Ashwagandha and Gokshura Capsules special?)

रसायनम द्वारा बनाई गई अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) कैप्सूल 60% सैपोनिन (Saponins) से भरपूर है जो कि उच्चतम मात्रा में निकाला जा सकता है। इतना ही नहीं इसे तैयार करने के लिए किसी भी रयासन का इस्तेमाल नहीं किया गया है, साथ ही यह सभी गुणवत्ता जान के लिए परीक्षण से गुजर चुके हैं।

अश्वगंधा और गोक्षुरा का सेवन कैसे करें? (How to consume Gokshura?)

आप रसायनम अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) का सेवन बड़ी आसानी से कर सकते हैं। आप दिन भर में इसकी एक गोली का सेवन लगातार 60 दिनों तक करें।

अक्सर पूछें जाने वाले सवाल (FAQ)

Q: क्या गोक्षुरा का उपयोग महिलाएं कर सकती हैं?

A: हां, गोक्षुरा का उपयोग महिलाएं कर सकती हैं। यह महिलाओं में प्रजनन स्वास्थ्य, हार्मोनल संतुलन और मूत्र पथ के स्वास्थ्य का समर्थन कर सकता है। हालाँकि, उपयोग से पहले स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है, खासकर यदि आप गर्भवती हैं, स्तनपान करा रही हैं, या विशिष्ट स्वास्थ्य संबंधी चिंताएँ हैं।

Q: रसायनम गोक्षुरा से कितने समय बाद परिणाम दिखते हैं?

A: परिणाम व्यक्ति दर व्यक्ति अलग-अलग होते हैं। लेकिन औसतन, आप 10-15 दिनों में ध्यान देने योग्य बदलाव महसूस कर सकते हैं। बेहतर परिणाम के लिए आप इसका सेवन लगातार कम से कम 30 दिनों तक करें।

Q: किन लोगों को अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिए?

A: यदि आप कैंसर, किडनी संबंधित रोग, प्रोस्टेट विकार से जूझ रहे हैं तो आपको इसका सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा गर्भवती हैं या स्तनपान करवाती है तो भी आपको इसका सेवन नहीं करना चाहिए। मधुमेह रोगी और उच्च रक्तचाप वाले रोगी का सेवन डॉक्टर की सलाह से कर सकते हैं।

Q: क्या अश्वगंधा और गोक्षुरा के कोई दुष्प्रभाव हैं?

A: उचित खुराक में उपयोग किए जाने पर अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) आमतौर पर अच्छी तरह से सहन किया जाता है। हालाँकि, कुछ व्यक्तियों को हल्के दुष्प्रभाव जैसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल असुविधा या एलर्जी प्रतिक्रिया का अनुभव हो सकता है। यदि आपको किसी भी प्रतिकूल प्रतिक्रिया का अनुभव हो तो उपयोग बंद करना और चिकित्सा पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

Q: क्या अश्वगंधा और गोक्षुरा का उपयोग अन्य हर्बल सप्लीमेंट के साथ किया जा सकता है?

A: अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) का उपयोग अन्य हर्बल सप्लीमेंट के साथ किया जा सकता है, लेकिन सावधानी बरतना और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। कुछ संयोजनों में सहक्रियात्मक प्रभाव हो सकते हैं, जबकि अन्य परस्पर क्रिया कर सकते हैं या संचयी प्रभाव डाल सकते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

निष्कर्षतः, अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) आमतौर पर आयुर्वेदिक चिकित्सा में उपयोग की जाने वाली एक जड़ी-बूटी है जो पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए संभावित लाभ प्रदान करती है। यह मूत्र पथ स्वास्थ्य, प्रजनन स्वास्थ्य और समग्र जीवन शक्ति पर इसके प्रभाव के लिए जाना जाता है। किसी भी हर्बल सप्लीमेंट की तरह, अश्वगंधा और गोक्षुरा (Ashwagandha and Gokshura) को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से पहले एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है, खासकर यदि आपको अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियां हैं या आप दवाएं ले रहे हैं।

Share on Facebook
Share on Twitter
Share on Linkedin
Popular Videos

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

    MY CART
    Your cart is emptyShop our best-sellers
      Calculate Shipping
      Apply Coupon

      Win ₹2000

      Subscribe to our newsletter to get a chance to win ₹2000 gift card every week

      Rasayanam WhatsApp