4.8 Stars across 20k reviews​ ★★★★★
Free shipping all over India above ₹400
Cash on delivery available
4.8 Stars across 20k reviews​ ★★★★★
Free shipping all over India above ₹400
Cash on delivery available

क्या आंवला जूस मधुमेह के लिए अच्छा है?

मधुमेह

मधुमेह सबसे आम जीवनशैली स्वास्थ्य स्थितियों में से एक है। यह एक क्रोनिक बीमारी है जो या तो तब होती है जब अग्न्याशय (pancreas) पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है या जब शरीर अपने द्वारा उत्पादित इंसुलिन का प्रभावी ढंग से उपयोग नहीं कर पाता है। इंसुलिन एक हार्मोन है जो रक्त शर्करा (blood sugar) को नियंत्रित करता है।

मधुमेह कई प्रकार के होते हैं। सबसे आम रूपों में निम्न शामिल हैं :-

  • टाइप 1 मधुमेह: यह प्रकार एक ऑटोइम्यून बीमारी है जिसमें आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली अज्ञात कारणों से आपके अग्न्याशय में इंसुलिन पैदा करने वाली कोशिकाओं पर हमला करती है और उन्हें नष्ट कर देती है। मधुमेह से पीड़ित 10% लोगों में टाइप 1 होता है।
  • टाइप 2 मधुमेह: इस प्रकार के साथ, आपका शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बनाता है और/या आपके शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन (इंसुलिन प्रतिरोध) के प्रति सामान्य रूप से प्रतिक्रिया नहीं करती हैं। यह मधुमेह का सबसे आम प्रकार है।
मधुमेह टाइप 2
  • गर्भकालीन मधुमेह: यह प्रकार कुछ महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान विकसित होता है। गर्भावस्था के बाद गर्भकालीन मधुमेह आमतौर पर दूर हो जाता है।

 

मधुमेह एक ऐसी स्थिति है जिसे ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन स्वस्थ आहार खाने, व्यायाम और शारीरिक गतिविधियों में शामिल होने और एक स्वस्थ और सक्रिय जीवनशैली अपनाने से इसे अच्छी तरह से प्रबंधित किया जा सकता है। वैसे तो मधुमेह को काबू करने के बहुत से उपाय मौजूद है लेकिन आंवला या आंवला जूस इसे नियंत्रित करने में आपकी काफी सहायता कर सकता है।

आंवला जूस मधुमेह को कैसे नियंत्रित करता है? (How does Amla juice control diabetes?)

आंवला (आमला) एक पारंपरिक उपाय है जो रक्त शर्करा को स्थिर स्तर पर रखने और भोजन के बाद स्पाइक्स को रोकने में मदद कर सकता है। आंवला या भारतीय गूसबेरी की सिफारिश ज्यादातर स्वास्थ्य चिकित्सकों द्वारा एक सामान्य टॉनिक के रूप में और त्वचा और बालों और अन्य बीमारियों के लिए एक सामयिक उपचार के रूप में की जाती है।

आंवले की कड़वी-खट्टी खूबियों का सेवन ताजा या मीठे और संरक्षित उत्पाद के रूप में किया जा सकता है, जिसे आंवले का मुरब्बा (Amla Murabba) कहा जाता है। इसके कई फायदे हैं। यहां बताया गया है कि आंवला मधुमेह रोगियों के लिए क्यों अच्छा हो सकता है :-

1. रक्त शर्करा को नियंत्रित करता है (Controls blood sugar)

आंवला जूस अपने हाइपोग्लाइसेमिक गुणों (hypoglycemic properties) के लिए जाना जाता है। यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है, जिससे यह टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह प्रबंधन दोनों के लिए फायदेमंद होता है। यह रक्त शर्करा के स्तर में अचानक वृद्धि और गिरावट के जोखिम को कम कर सकता है।

2. एंटीऑक्सीडेंट शक्ति से भरपूर (Rich in antioxidant power)

आंवला विटामिन सी जैसे एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध है, जो इंसुलिन उत्पादन और संवेदनशीलता को बढ़ावा देकर, ऑक्सीडेटिव तनाव और क्षति से अग्नाशयी कोशिकाओं को बचाने में मदद कर सकता है।

3. चयापचय बेहतर करे (Improve metabolism)

यह स्वस्थ चयापचय का समर्थन करता है, ग्लूकोज के प्रभावी उपयोग में सहायता करता है और रक्तप्रवाह में अतिरिक्त शर्करा को जमा होने से रोकता है।

4. हृदय स्वास्थ बनाए (Maintain heart health)

मधुमेह अक्सर हृदय संबंधी समस्याओं से मेल खाता है। आंवला कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) के स्तर को कम करने और हृदय रोग के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है, जो मधुमेह वाले व्यक्तियों के लिए एक आम चिंता का विषय है।

5. अग्न्याशय स्वास्थ्य रखे (Maintain pancreas health)

एक शोध के अनुसार आंवला अग्नाशयशोथ (pancreatitis) को रोकने के लिए आंवला एक प्रभावी पारंपरिक उपाय है। इंसुलिन (insulin), जो अग्न्याशय में उत्पन्न होता है, रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने के लिए महत्वपूर्ण है। हालाँकि, जब अग्न्याशय में सूजन हो जाती है, तो यह अग्नाशयशोथ का कारण बनता है जो इंसुलिन-स्रावित कोशिकाओं को घायल कर सकता है और परिणामस्वरूप उच्च रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि हो सकती है। इसलिए, आंवला अग्नाशयशोथ को नियंत्रित करने और अंततः रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के लिए जाना जाता है।

मधुमेह नियंत्रित करने के आंवला किस तरह लें? (How to take Amla to control diabetes?)

आपने अभी ऊपर जाना कि आंवला किस तरफ मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद हैं। तो चलिए अब जानते हैं आप इसे किस तरह अपने जीवन में शामिल कर सकते हैं:

1. इसे कच्चा खायें (Eat it raw)

यह आंवले का सेवन करने का सबसे सरल तरीका है। अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए रोजाना एक आंवले का सेवन करें।

2. अपने सलाद और सब्जियों में आँवला डालें (Add amla to your salads and vegetables)

इस फल को अपने आहार में शामिल करने का यह एक शानदार तरीका है। आप इसे अपनी सलाद या सब्जी बनाते हुए दाल सकते हैं। इसके अलावा आप इसकी चटनी भी बना सकते हैं।

3. आँवला जूस पियें (Drink Amla Juice)

रोजाना खाली पेट इस आंवले के जूस का सेवन करें, परिणाम जानकर आप हैरान रह जाएंगे। इसे रोजाना खाने से आपको अपना वजन नियंत्रित रखने में भी मदद मिल सकती है।

आंवला जूस

आंवला जूस मधुमेह को काबू करने के लिए सबसे बेहतर विकल्प हैं, लेकिन रोजाना आंवला जूस बनाना काफी मेहनत का कार्य है। इसलिए आप रसायनम शुद्ध आंवला जूस (Rasayanam Pure Amla Juice) लें क्योंकि यह की न केवल आपके मधुमेह स्तर को काबू करेगा बल्कि आपको और भी अन्य फायदे प्रदान करेगा। शुद्ध आंवला जूस अपने एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी गुणों के कारण आपके बालों, नाखूनों, त्वचा और समग्र स्वास्थ्य के लिए एक कायाकल्प जूस के रूप में कार्य करता है।  

इतना ही नहीं आप मधुमेह से राहत पाने के लिए रसायनम ग्लूकोकेयर जूस (Rasayanam GlucoCare Juice) भी प्राप्त कर सकते हैं। यह जूस जामुन, करेला, गुड़मार, विजयसार, मेथी, नीम, आंवला और बनबा जैसे प्राकृतिक अवयवों से बना है। यह आपके शर्करा के स्तर और वजन प्रबंधन में सुधार करने में मदद करेगा और अग्न्याशय के स्वास्थ्य को भी बढ़ाएगा। आप 30 मिलीलीटर रसायनम ग्लूकोकेयर जूस का सेवन कर सकते हैं और परिणाम स्वयं देख सकते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

आयुर्वेद ने प्राचीन काल से ही अपनी विविध विशेषताओं के लिए आंवले की प्रासंगिकता पर जोर दिया है। इतना ही नहीं आंवला हिन्दू धर्म में भी अपना विशेष स्थान रखता है। मान्यतों के अनुसार इस वृक्ष पर भगवान विष्णु और धन की देवी माता लक्ष्मी का वास होता है।

मधुमेह से पीड़ित लोगों को अपने आहार में ताजा आंवला शामिल करने से लाभ हो सकता है। आप आंवले को विभिन्न रूपों में शामिल कर सकते हैं जैसे, फल जैसा है, उसे स्मूदी या जूस में शामिल करना, या उसका रस निकालकर सेवन करना। आंवला उच्च रक्त शर्करा के स्तर को कम करके और शरीर में विषाक्त संचय को रोककर टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह रोगियों को लाभ पहुंचाता है। इसके अलावा, बेहतर मधुमेह प्रबंधन के लिए नाश्ते या भोजन में स्वादिष्ट अतिरिक्त के रूप में अपने आहार में शामिल करने के लिए आंवला एक शानदार, स्वस्थ फल है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

1. मधुमेह के रोगी को कितना आंवला खाना चाहिए?

मधुमेह की गंभीरता के आधार पर, मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति प्रतिदिन एक या दो आंवले का सेवन कर सकता है। फल को कच्चा या जूस बनाकर सेवन किया जा सकता है। रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए आंवला एक उत्कृष्ट अतिरिक्त है। हालाँकि, इसका सेवन करने से पहले हमेशा डॉक्टर से मिलने की सलाह दी जाती है।

2. क्या मधुमेह रोगी आंवला रोगी जूस पी सकते हैं?

हां, अगर आपको डायबिटीज है तो आप बिना चीनी मिलाए आंवले का जूस पी सकते हैं। एक अध्ययन के अनुसार, आंवले में मधुमेह विरोधी गुण होते हैं। इसके अलावा, यह रक्त ग्लूकोज चयापचय को बढ़ाता है, रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है और विषाक्त पदार्थों के निर्माण से बचाता है। इसके अलावा, इसकी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर संरचना सेल इंसुलिन प्रतिरोध को कम करती है और मधुमेह के लक्षणों के इलाज में सहायता करती है।

3. क्या आंवला रक्तचाप बढ़ाता है?

नहीं, इसके विपरीत, आंवला रक्तचाप को कम करता है; आंवले में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और उच्च पोटेशियम का स्तर रक्तचाप को कम करने में सहायता करता है।

4. आंवला खाने या जूस पीने का सबसे बेहतर समय क्या है?

सुबह खाली पेट आंवले का सेवन करने का सबसे अच्छा समय है। यह न केवल बृहदान्त्र को साफ करता है, बल्कि शरीर से विषाक्त पदार्थों को भी बाहर निकालता है और प्राकृतिक विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है।

5. क्या सभी लोग आंवले का सेवन कर सकते हैं?

आंवला या संबंधित फलों से एलर्जी वाले व्यक्तियों को इससे बचना चाहिए। आंवला अम्लीय हो सकता है और संवेदनशील पेट या एसिड रिफ्लक्स समस्याओं वाले व्यक्तियों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है। ऐसे मामलों में, किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।

Share on Facebook
Share on Twitter
Share on Linkedin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Calculate Shipping
    Apply Coupon

    Win ₹2000

    Subscribe to our newsletter to get a chance to win ₹2000 gift card every week

    Rasayanam WhatsApp