4.8 Stars across 20k reviews​ ★★★★★
Free shipping all over India above ₹400
Cash on delivery available
4.8 Stars across 20k reviews​ ★★★★★
Free shipping all over India above ₹400
Cash on delivery available

प्राकृतिक रूप से टेस्टोस्टेरोन हार्मोन कैसे बढ़ाएं और रसायनम टेस्टोबूस्ट इसमें कैसे मदद कर सकता है।

Rasayanam Testoboost, टेस्टोस्टेरोन हार्मोन कैसे बढ़ाये

पुरुषों के स्वास्थ्य में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शुरुआत के लिए, यह मांसपेशियों, हड्डियों के घनत्व और सेक्स ड्राइव को बनाए रखने में मदद करता है। किसी व्यक्ति के प्रारंभिक वयस्कता में टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन अपने उच्चतम स्तर पर होता है और उसके बाद हर साल थोड़ा कम हो जाता है। जब शरीर सही मात्रा में टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन नहीं करता है, तो इस स्थिति को अल्पजननग्रंथिता या हाइपोगोनाडिज्म कहा जाता है, जो कि एक चिकित्सा शब्द है। कभी-कभी इसे “लो टी” भी कहा जाता है। इस लेख में हम टेस्टोस्टेरोन के विषय में विस्तार से चर्चा करेंगे और जानेंगे कि यह हमारे शरीर में क्यों कम होने लगता है, इसके लक्षण क्या है और सबसे जरूरी टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाया कैसे जा सकता है, और रसायनम टेस्टोबूस्ट इसमें आपकी कैसे मदद कर सकता है?

टेस्टोस्टेरोन क्या है? (What is testosterone?)

टेस्टोस्टेरोन एक हार्मोन है जो आपके गोनाड (यौन अंग) (gonads (sex organs) मुख्य रूप से उत्पन्न करते हैं। अधिक विशेष रूप से पुरुषों में अंडकोष (testicles) और महिलाओं में अंडाशय (ovary) टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन करते हैं।

अधिवृक्क ग्रंथियां (adrenal glands) डीहाइड्रोएपियनड्रोस्टेरोन (डीएचईए) (Dehydroepiandrosterone – DHEA) हार्मोन का भी उत्पादन करती हैं, जिसे शरीर टेस्टोस्टेरोन (testosterone) और एस्ट्रोजन (estrogen) में बदल देता है। टेस्टोस्टेरोन मुख्य एस्ट्रोजन है, जिसका अर्थ है कि यह पुरुष विशेषताओं के विकास को उत्तेजित करता है। पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर स्वाभाविक रूप से महिलाओं की तुलना में बहुत अधिक होता है।

टेस्टोस्टेरोन क्या करता है? (What does testosterone do?)

जीवन के विभिन्न चरणों में टेस्टोस्टेरोन की अलग-अलग भूमिकाएँ होती हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं :-

  1. भ्रूण विकास।
  2. पुरुष बच्चों के लिए यौवन।
  3. वयस्कता।
  4. वीर्य का उत्पादन।

उम्र के अनुसार सामान्य टेस्टोस्टेरोन स्तर क्या हैं? (What are normal testosterone levels by age?)

नीचे दिए गए चार्ट में टेस्टोस्टेरोन के सामान्य स्तर को नैनोग्राम प्रति डेसीलीटर (ng/dL) में मापा जाता है। पुरुषों में सामान्य टेस्टोस्टेरोन स्तर निम्न हैं :-

उम्र

टेस्टोस्टेरोन स्तर ng/Dl में

1 वर्ष

12 ng/dL से कम

1 से 5 वर्ष

12 ng/dL से कम

6 से 10 वर्ष

25 ng/dL से कम

11 से 15 वर्ष

830 ng/dL से कम

16 से 17 वर्ष

102 to 1010 ng/dL

18से 99 वर्ष

193 to 824 ng/dL

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि टेस्टोस्टेरोन के स्तर की सामान्य सीमाएँ रक्त परीक्षण के प्रकार और उस प्रयोगशाला के आधार पर भिन्न हो सकती हैं जहाँ यह किया जाता है। आपके परिणामों की व्याख्या करते समय आपका डॉक्टर हमेशा आपकी प्रयोगशाला की सामान्य श्रेणियों का संदर्भ देगा। यदि आपके कोई प्रश्न हों तो उनसे बात करें।

कम टेस्टोस्टेरोन के क्या कारण हैं? (What causes low testosterone?)

कम टेस्टोस्टेरोन के कई संभावित कारण हैं, लेकिन इसे मुख्य रूप से दो प्रकारों में विभाजित किया जाता है जिसे निम्न वर्णित किया गया है:-

  1. प्राथमिक हाइपोगोनाडिज्म (वृषण संबंधी विकार) (Primary hypogonadism (testicular disorder)।

 

  1. माध्यमिक हाइपोगोनाडिज्म (पिट्यूटरी/हाइपोथैलेमस डिसफंक्शन) (Secondary hypogonadism (pituitary/hypothalamus dysfunction)।

 

प्राथमिक और माध्यमिक हाइपोगोनाडिज्म के कारणों को भी जन्मजात (जन्म के समय) या अधिग्रहित (बाद में बचपन या वयस्कता में विकसित) में विभाजित किया गया है।

प्राथमिक हाइपोगोनाडिज्म (Primary hypogonadism)

प्राथमिक हाइपोगोनाडिज्म के सामान्य कारणों में निम्न शामिल हैं :-

1. क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम (Klinefelter syndrome) :- यह स्थिति लिंग गुणसूत्रों (sex chromosomes), X और Y की जन्मजात असामान्यता के कारण होती है। एक पुरुष में आम तौर पर एक एक्स और एक वाई गुणसूत्र होता है। क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम में, एक Y गुणसूत्र के अलावा दो या अधिक X गुणसूत्र मौजूद होते हैं। Y गुणसूत्र में आनुवंशिक सामग्री होती है जो बच्चे के लिंग और संबंधित विकास को निर्धारित करती है। क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम में होने वाला अतिरिक्त एक्स क्रोमोसोम अंडकोष के असामान्य विकास का कारण बनता है, जिसके परिणामस्वरूप टेस्टोस्टेरोन का कम उत्पादन होता है।

2. अंडकोष नीचे न उतरे (undescended testicles) :- जन्म से पहले, अंडकोष पेट के अंदर विकसित होते हैं और आम तौर पर अंडकोश में अपने स्थायी स्थान पर चले जाते हैं। कभी-कभी जन्म के समय एक या दोनों अंडकोष नीचे नहीं आते। यह स्थिति अक्सर उपचार के बिना जीवन के पहले कुछ वर्षों में ही ठीक हो जाती है। यदि बचपन में इसे ठीक नहीं किया गया, तो इससे अंडकोष में खराबी हो सकती है और टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन कम हो सकता है।

3. कण्ठमाला ऑर्काइटिस (mumps orchitis) :- किशोरावस्था या वयस्कता के दौरान होने वाला अंडकोष से जुड़ा कण्ठमाला संक्रमण अंडकोष को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे अंडकोष की कार्यप्रणाली और टेस्टोस्टेरोन उत्पादन प्रभावित हो सकता है।

4. हेमोक्रोमैटोसिस (hemochromatosis) :- रक्त में बहुत अधिक आयरन वृषण विफलता या पिट्यूटरी ग्रंथि की शिथिलता का कारण बन सकता है, जिससे टेस्टोस्टेरोन उत्पादन प्रभावित हो सकता है।

5. अंडकोष में चोट (testicular injury) :- क्योंकि अंडकोषो पेट के बाहर होते हैं, अंडकोष में चोट लगने का खतरा होता है। दोनों अंडकोषों को नुकसान होने से हाइपोगोनाडिज्म हो सकता है। एक अंडकोष को नुकसान होने से कुल टेस्टोस्टेरोन उत्पादन ख़राब नहीं हो सकता है।

6. कैंसर का उपचार (cancer treatment) :- कैंसर के इलाज के लिए कीमोथेरेपी या विकिरण थेरेपी टेस्टोस्टेरोन और शुक्राणु उत्पादन में हस्तक्षेप कर सकती है। दोनों उपचारों के प्रभाव अक्सर अस्थायी होते हैं, लेकिन स्थायी बांझपन हो सकता है। हालाँकि कई पुरुष उपचार के बाद कुछ महीनों के भीतर अपनी प्रजनन क्षमता पुनः प्राप्त कर लेते हैं, कैंसर चिकित्सा शुरू करने से पहले शुक्राणु को संरक्षित करना पुरुषों के लिए एक विकल्प है।

माध्यमिक अल्पजननग्रंथिता (Secondary hypogonadism)

सेकेंडरी हाइपोगोनाडिज्म में, अंडकोष सामान्य होते हैं लेकिन पिट्यूटरी (pituitary) या हाइपोथैलेमस (hypothalamus) की समस्या के कारण ठीक से काम नहीं करते हैं। कई स्थितियाँ द्वितीयक हाइपोगोनाडिज्म का कारण बन सकती हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं :-

1. कल्मन सिंड्रोम (Kallman syndrome) :- यह मस्तिष्क के उस क्षेत्र का असामान्य विकास है जो पिट्यूटरी हार्मोन (हाइपोथैलेमस) के स्राव को नियंत्रित करता है। यह असामान्यता सूंघने की क्षमता (एनोस्मिया) को भी प्रभावित कर सकती है और लाल-हरे रंग के अंधापन का कारण बन सकती है।

2. पिट्यूटरी विकार (pituitary disorder) :- पिट्यूटरी ग्रंथि में असामान्यता पिट्यूटरी ग्रंथि से अंडकोष तक हार्मोन की रिहाई को बाधित कर सकती है, जिससे सामान्य टेस्टोस्टेरोन उत्पादन प्रभावित हो सकता है। पिट्यूटरी ट्यूमर या पिट्यूटरी ग्रंथि के पास स्थित अन्य प्रकार का मस्तिष्क ट्यूमर टेस्टोस्टेरोन या अन्य हार्मोन की कमी का कारण बन सकता है।

3. सूजन संबंधी रोग (inflammatory diseases) :- कुछ सूजन संबंधी बीमारियाँ, जैसे सारकॉइडोसिस, हिस्टियोसाइटोसिस और तपेदिक, हाइपोथैलेमस और पिट्यूटरी ग्रंथि को प्रभावित करती हैं और टेस्टोस्टेरोन उत्पादन को प्रभावित कर सकती हैं।

4. एचआईवी/एड्स (HIV / AIDS) :- एचआईवी/एड्स हाइपोथैलेमस, पिट्यूटरी और वृषण को प्रभावित करके टेस्टोस्टेरोन के निम्न स्तर का कारण बन सकता है।

5. औषधियाँ (medicines) :- कुछ दवाओं का उपयोग, जैसे कि ओपियेट दर्द दवाएं और कुछ हार्मोन, टेस्टोस्टेरोन उत्पादन को प्रभावित कर सकते हैं।

6. मोटापा (obesity) :- किसी भी उम्र में अत्यधिक वजन होना हाइपोगोनाडिज्म से जुड़ा हो सकता है।

7. उम्र बढ़ना (Ageing) :- जैसे-जैसे पुरुषों की उम्र बढ़ती है, टेस्टोस्टेरोन उत्पादन में धीमी, प्रगतिशील कमी आती है। दर बहुत भिन्न होती है।

कम टेस्टोस्टेरोन के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of low testosterone?)

हर व्यक्ति में कम टेस्टोस्टेरोन के लक्षण काफी भिन्न हो सकते हैं, खासकर उम्र के अनुसार। कम टेस्टोस्टेरोन का संकेत देने वाले वाले लक्षण निम्न हैं :-

  1. सेक्स ड्राइव में कमी (decreased sex drive)।
  2. स्तंभन दोष (erectile dysfunction)।
  3. बगल और जघन के बालों का झड़ना।
  4. अंडकोष का सिकुड़ना (Shrinkage of testicles)।
  5. अचानक बुखार वाली गर्मी महसूस करना।
  6. कम या शून्य शुक्राणु संख्या (एज़ोस्पर्मिया – azoospermia), जो पुरुष बांझपन का कारण बनती है।

वयस्कों में कम टेस्टोस्टेरोन के अन्य लक्षणों में निम्न शामिल हैं :-

  1. उदास मन।
  2. एकाग्रता और याददाश्त में कठिनाई।
  3. शरीर की चर्बी बढ़ना।
  4. बढ़े हुए पुरुष स्तन ऊतक (गाइनेकोमेस्टिया – gynecomastia)।
  5. मांसपेशियों की ताकत और द्रव्यमान में कमी।
  6. सहनशक्ति में कमी।

कम टेस्टोस्टेरोन का इलाज कैसे किया जाता है? (How is low testosterone treated?)

चिकित्सक टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के साथ कम टेस्टोस्टेरोन (पुरुष हाइपोगोनाडिज्म) का इलाज करते हैं। टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के कई अलग-अलग रूप हैं, जिनमें निम्न उपाय शामिल हैं :-

Testosterone levels, टेस्टोस्टेरोन हार्मोन

1. टेस्टोस्टेरोन त्वचा जैल (testosterone skin gel) :- इस उपचार में आप निर्देशानुसार साफ, सूखी त्वचा पर हर दिन जेल लगाते हैं। यह महत्वपूर्ण है कि आप त्वचा से त्वचा के संपर्क के माध्यम से जेल को किसी अन्य व्यक्ति तक स्थानांतरित न करें।

2. इंट्रामस्क्युलर टेस्टोस्टेरोन इंजेक्शन (intramuscular testosterone injection) :- आपका चिकित्सक हर 1 से 2 सप्ताह में मांसपेशियों में इंजेक्शन लगा सकते हैं। चिकित्सक हर 10 सप्ताह में इंजेक्शन द्वारा लंबे समय तक काम करने वाले टेस्टोस्टेरोन का प्रबंध कर सकते हैं।

3. टेस्टोस्टेरोन पैच (testosterone patch) :- आप इन पैच को हर दिन निर्देशानुसार अपनी त्वचा पर लगाएं। त्वचा की प्रतिक्रियाओं से बचने के लिए आपको आमतौर पर उनका स्थान बदलना होगा।

4. टेस्टोस्टेरोन छर्रों (testosterone pellets) :- एक विशेषज्ञ हर तीन से छह महीने में इन छर्रों को आपकी त्वचा के नीचे प्रत्यारोपित करता है। छर्रे लगातार और दीर्घकालिक टेस्टोस्टेरोन खुराक प्रदान करते हैं।

5. बुक्कल टेस्टोस्टेरोन गोलियाँ (buccal testosterone pills) :- ये चिपचिपी गोलियाँ हैं जिन्हें आप दिन में दो बार अपने मसूड़ों पर लगाते हैं। टेस्टोस्टेरोन आपके मसूड़ों के माध्यम से आपके रक्तप्रवाह में तेजी से अवशोषित हो जाता है।

6. टेस्टोस्टेरोन नेज़ल जेल (testosterone nasal gel) :- आप टेस्टोस्टेरोन जेल को प्रत्येक नथुने में दिन में तीन बार लगाकर लगाएं।

7. मौखिक टेस्टोस्टेरोन (oral testosterone) :- टेस्टोस्टेरोन का एक गोली रूप जिसे अनडेकेनोएट कहा जाता है, उन लोगों के लिए उपलब्ध है जिनमें विशिष्ट चिकित्सा स्थितियों के कारण कम टेस्टोस्टेरोन होता है, जैसे कि क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम या ट्यूमर जिन्होंने उनकी पिट्यूटरी ग्रंथि को नुकसान पहुंचाया है।

घर पर टेस्टोस्टेरोन हार्मोन कैसे बढ़ाये? (How to increase testosterone hormone at home?)

अगर आपको लगता है कि आपके शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी है तो आप निम्न कुछ घरेलु उपायों की मदद से आसानी से टेस्टोस्टेरोन को बढ़ा सकते हैं :-

1. हरी और पत्तेदार सब्जियाँ आहार में शामिल करें (Include green and leafy vegetables in your diet) :- ब्रोकोली, केल और पालक जैसी पत्तेदार सब्जियाँ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो टेस्टोस्टेरोन बढ़ाते हैं, उनके सूक्ष्म पोषक तत्वों की सघनता के कारण। वे उच्च मैग्नीशियम सांद्रता के लिए जाने जाते हैं और ऐसे खाद्य पदार्थों के रूप में जाने जाते हैं जो मुक्त कणों को निष्क्रिय करते हुए टेस्टोस्टेरोन को बढ़ावा देते हैं।

2. अदरक लें (take ginger) :- अदरक उन खाद्य पदार्थों में से एक है जिसका दैनिक सेवन टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाता है। अदरक सार्वभौमिक रूप से अपने अद्वितीय उपचार गुणों के लिए जाना जाता है, जो स्वस्थ शुक्राणु (Sperm) आकृति विज्ञान के लिए महत्वपूर्ण टेस्टोस्टेरोन के स्तर को मजबूत करने में सहायता करता है।

3. दुग्ध उत्पाद लें (take dairy products) :- टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों का एक उत्कृष्ट स्रोत, दूध उत्पाद आपको कैल्शियम और विटामिन डी जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्रदान कर सकते हैं। हालांकि यदि आप लैक्टोज असहिष्णु (lactose intolerant) या विगन हैं, तो पौधे का दूध आपकी दैनिक पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उपयुक्त है।

4. पर्याप्त नींद लें (get enough sleep) :- पर्याप्त नींद लेना महत्वपूर्ण है। खराब नींद आपके शरीर में टेस्टोस्टेरोन सहित हार्मोन को नुकसान पहुंचा सकती है। हर रात 7-9 घंटे की अच्छी नींद का लक्ष्य रखें।

5. टेस्टोस्टेरोन टेस्टोबूस्ट लें (Take Testosterone Testoboost) :- वैसे तो आप कोई भी टेस्टोबूस्ट ले सकते हैं, लेकिन अगर आप तेजी से फायदा प्राप्त करना चाहते हैं तो आप रसायनम टेस्टोबूस्ट कैप्सूल लें जो कि आयुर्वेदिक है और इसके नकारात्मक प्रभाव भी नहीं है।

रसायनम टेस्टोबूस्ट टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के लिए कैसे फायदेमंद हैं? (How is Rasayanam Testoboost beneficial for increasing testosterone?)

टेस्टोबूस्ट स्वाभाविक रूप से टेस्टोस्टेरोन को बढ़ावा देने के लिए एक केंद्रित फार्मूला है। रसायनम टेस्टोबूस्ट (Rasayanam Testoboost) अन्य टेस्टोबूस्ट से अलग है क्योंकि यह शुद्ध आयुर्वेदिक उत्पादों से निर्मित है और यह कैप्सूल के रूप में आता है जिसकी वजह से इसे लेना भी काफी आसान हो जाता है।

Rasayanam Testoboost

रसायनम टेस्टोबूस्ट के प्रत्येक कैप्सूल में 500 मिलीग्राम तीन निम्न शक्तिशाली आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियाँ होती हैं:-

  1. शिलाजीत (Shilajit)
  2. अश्वगंधा (Ashwagandha)
  3. सफेद मूसली (White Muesli)

 

यह तीनों जड़ी-बूटियाँ मिलकर बहुत अच्छा काम करते हैं और इनकी शक्ति अलग-अलग इनमें से प्रत्येक की तुलना में बहुत अधिक मजबूत होती है। इतना अधिक कि टेस्टोबूस्ट का सिर्फ एक कैप्सूल तीन जड़ी-बूटियों के कैप्सूल की ताकत रखता है। और सबसे अच्छी बात, क्योंकि यह पूरी तरह से प्राकृतिक है।  

रसायनम टेस्टोबूस्ट के फायदे क्या हैं? (What are the benefits of Rasayanam Testoboost?)

रसायनम टेस्टोबूस्ट लेने से आपको निम्न बड़े फायदे मिलेंगे :-

  1. कामेच्छा और इच्छा में तीव्र वृद्धि
  2. अधिक ऊर्जा और अधिक टेस्टोस्टेरोन
  3. बेहतर ताकत, सहनशक्ति और प्रदर्शन
  4. तनाव और सामान्य चिंता से बेहतर ढंग से निपटें

रसायनम टेस्टोबूस्ट का सेवन कैसे लें? (How to take Rasayanam Testoboost?)

आप रसायनम टेस्टोबूस्ट को भोजन के बाद दिन में दो बार एक कैप्सूल लें। बेहतर परिणामों के लिए कम से कम 60 दिनों तक या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें। यदि आप कैंसर, किडनी या लीवर का उपचार लें रहे हैं तो इस बारे में डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

रसायनम टेस्टोबूस्ट कहाँ से प्राप्त करें? (Where to get Rasayanam Testoboost?)

रसायनम टेस्टोबूस्ट (Rasayanam Testoboost) आप रसायनम की आधिकारिक वेबसाइट से आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

अक्सर पूछें जाने वाले सवाल (FAQ’s)

1. क्या रसायनम टेस्टोबूस्ट का कोई नुकसान हैं?

नहीं, यह एक दम प्राकृतिक हैं और साथ ही शुद्ध जड़ी-बूटियों से निर्मित है जिसके कारण इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। हाँ, आप इसका सेवन दिशानिर्देश अनुसार ही करें और डॉक्टर से सलाह लेना न भूलें।

2. क्या इसका उपयोग पुरुष और महिला दोनों कर सकते हैं?

टेस्टोबूस्ट केवल पुरुषों के लिए तैयार किया गया है। महिलाएं हमारा शुद्ध शिलाजीत आज़मा सकती हैं जो हमारा यूनिसेक्स उत्पाद है।

3. कौन सा भोजन तेजी से टेस्टोस्टेरोन बढ़ाता है?

मछली का तेल टेस्टोस्टेरोन के स्तर को 52 प्रतिशत तक बढ़ा सकता है, खासकर जब इसे नियमित व्यायाम के साथ जोड़ा जाए।

4. टेस्टोबूस्ट से यौन प्रदर्शन में सुधार होता है?

टेस्टोबूस्ट टेस्टोस्टेरोन उत्पादन का समर्थन करता है जो विभिन्न यौन समस्याओं जैसे कामेच्छा में कमी (decreased libido), ईडी, शीघ्रपतन (premature ejaculation) और बांझपन का इलाज करने में मदद करता है।

5. ऐसे कौन से आहार है जो टेस्टोस्टेरोन को बढ़ावा देते हैं?

जो खाद्य पदार्थ टेस्टोस्टेरोन को बढ़ावा दे सकते हैं उनमें अंडे, दूध, लहसुन, शहद, पत्तागोभी, लाल मांस, अंगूर, टूना, अनार, हिरन का मांस, अदरक, पालक, कद्दू के बीज, मैका और चिया बीज शामिल हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

हमें यह समझने की जरूरत है कि समय के साथ-साथ टेस्टोस्टेरोन का स्तर साथ स्वाभाविक रूप से कम हो जाता है और स्वस्थ शरीर के लिए इसे संतुलित रखना महत्वपूर्ण है। यदि आप अपने शरीर को शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं रखेंगे और मानसिक तनाव रखेंगे तो टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होना लाज़मी है। इसे आधुनिक चिकिसा की सहायता से बढ़ाया जा सकता है, लेकिन इससे दुष्प्रभाव होने के जोखिम बने रहते हैं। इसलिए आप अपनी दैनिक किर्याओं में और आहार में बदलाव करें जिससे आप टेस्टोस्टेरोन को आसानी से बढ़ा सकते हैं. हाँ, इसके साथ-साथ रसायनम टेस्टोबूस्ट जरूर लें।

Share on Facebook
Share on Twitter
Share on Linkedin
Categoies
Popular Videos

2 Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

    MY CART
      Calculate Shipping
      Apply Coupon

      Test result is under process.

      Your dosha test result is under evaluation. Please wait for a while. You will be redirected to the result page.

      Don't know which product to go for?

      Get personalized recommendations from experts!
      Rasayanam WhatsApp